Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways
     
View Content in English DLW HOSPITAL
National Emblem of India

डी.रे.का के बारे में

विभाग

डीज़ल पोर्टल

निविदा सूचना

संभारक सूचनाएँ

समाचार एवं घटनाए

हमसे संपर्क करें

संक्षिप्त इतिहास
ऑर्गनाइज़ेशन
संगठनात्मक सामर्थ्य
गुणवत्ता आश्वासन
हमारी गुणवत्ता नीति
उत्पादन
पोर्टल नीतियां
वर्तमान के महत्वपूर्ण घटना एवं भविष्य की योजना
अभिकल्प एवं विकास क्षमताएँ
शक्तियों की अनुसूची
राजपत्रित अधिकारियों की संपत्ति का विवरण दिनांक 01.01.2017
आगन्तुक
फोटो गैलरी
स्वच्छ भारत मिशन
रेल हमसफर सप्ताह


Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

 
पर्यावरण-प्रबंधन :
हमें दृढ विश्वास है कि केवल स्वस्थ और अनुकूल वातावरण ही एक स्वस्थ नागरिक का सृजन एवं विकास कर सकता है। डीरेका को स्वच्छ और हरा-भरा बनाए रखने के लिए हमारे पास एक सुपरिभाषित एकीकृत पर्यावरण नीति है। इससे अतंर्राष्ट्रीय मानक के उत्पादों का निर्माण करने के लिए हमेशा हमारे कार्य-बल को प्रेरणा मिलती है।l
 
पर्यावरणीय कार्य:
  • संसाधनों की खपत में कमी
  • अग्नि आपात कालीन घटनाओं में कमी- 10% प्रतिवर्ष
  • आपात कालीन तैयारियों में बेहतरी
  • जल एवं वायु परिवेश की आवधिक जांच
मल- जल शोधन संयंत्र :
एस टी पी मुख्यतया घरेलु और औद्योगिक मल-जल के शोधन से संबंधित है। शोधित जल का उपयोग लोहता के आस-पास के खेतों तथा डीरेका परिसर के बाग-बगीचों की सिंचाई के लिए किया जाता है। संग्रहित अपशिष्ट, को उपशिष्ट शुष्कन (स्लज ड्राइंग) बेड के लिए भेजा जाता है, बाद में इसे खाद के रूप में प्रयुक्त किया जाता है। डाइजेस्टर से मुख्यतया उत्पन्न मीथेन गैस को गैस होल्डर में संग्रहित किया जाता है और कैंटीन को आपूर्ती की जाती है।
 
औद्योगिक नि:स्राव शोधन संयंत्र :
औद्योगिक नि:स्राव के शोधन का कार्य करता है, जिसमें मुख्यतया तेल और ग्रीस समाविष्ट रहते है। शोधित जल आस-पास के गांवों को खेती के लिए और डीरेका के बाग-बगीचों के लिए भेजा जाता है।

क्रोमियम शोधन संयंत्र :
सी टी पी, सी आर पी शाप (क्रोम प्लेटिंग शाप) के नि:स्राव शोधन का कार्य करता है। इससे हेक्सावैलेंट क्रोमियम की सांद्रता बढ जाती है। यह हेक्सावैलेंट, क्रोमियम, अम्लीय दशा वाली ट्राइवैलेंट क्रोमियम में परिवार्तित होकर अवक्षेपित हो जाता है। यह अपशिष्ट सुखाने के बाद केक के आकर का हो जाता है, जिसे कंक्रीट के बने ढक्कनदार टैंक में भंडारण किया जाता है। शोधन के बाद जल का उपयोग आस-पास के गांवों में सिचाई के लिए होता है।

व्यावसायिक स्वास्थ्य एवं संरक्षा प्रबंधन :
डीरेका को सितंबर, 2005 से ओहसास- 18001 प्रमाण पत्र प्राप्त है। ओहसास से कार्य- प्रक्रिया, जोखिमों के लक्षण एवं संबंधित जोखिमों के निर्धारण में सहायता मिलती है और यह कार्यस्थल पर वैयक्ति संरक्षा उपकरणों के संबंध में जागरूकता प्रदान करता है। यह कार्यस्थल पर संरक्षा में वृद्धि, दुर्घटनाओं की संभावना में कमी और कर्मचारियों को उत्पादकता में वृद्धि की ओर अग्रसर करते हुए अधिक विश्वसनीय बनाता है।

ओहसास का उद्देश्य :
  • कार्य पर दुर्घटना मामलों में कमी- 10% प्रतिवर्ष
  • पीपीई (100%) के उपयोग में सुधार
  • भूमि जल की रिचार्जिग
  • आवधिक रूप से जल एंव परिवेशी वायु की मॉनिटरिंग

 



Source : Welcome to DLW Official Website CMS Team Last Reviewed on: 19-05-2016  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.