Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways
     
View Content in English
National Emblem of India

डी.रे.का के बारे में

विभाग

डीज़ल पोर्टल

निविदा सूचना

संभारक सूचनाएँ

समाचार एवं घटनाए

हमसे संपर्क करें

संक्षिप्त इतिहास
ऑर्गनाइज़ेशन
संगठनात्मक सामर्थ्य
गुणवत्ता आश्वासन
हमारी गुणवत्ता नीति
विक्रय हेतु उत्पादन
पोर्टल नीतियां
पर्यावरणीय/सामाजिक अनुस्थापन
वर्तमान के महत्वपूर्ण घटना एवं भविष्य की योजना
शक्तियों की अनुसूची
राजपत्रित अधिकारियों की संपत्ति का विवरण दिनांक 01.01.2018
आगन्तुक
फोटो गैलरी
स्वच्छ भारत मिशन
रेल हमसफर सप्ताह


Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

 

  1. संगठनात्मक ढांचा:

डीरेका में अभिकल्प एवं विकास कार्यालय है, डीजल रेल इंजन संबंधी सभी इंजीनियरिंग कार्यों के लिए उत्तरदायी है। व्यापक  डिजाइनिंग सुविधाओं से सुसज्जित यह कार्यालय, क्षेत्रीय रेलों/डीजल रेज इंजन अनुरक्षण शेडों तथा रेल इंजन ओरव हालिंग कारखानों को सेवा संबंधी सहायता प्रदान करता है। यह कार्यालय उत्पाद विकास, वेन्डर विकास तथा वेन्डर अनुमोदन के लिए भी उत्तरदायी है। यह तकनीकी मामलों में अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन/रेलवे बोर्ड के साथ तकनीकी सुझाव एवं समन्वय कार्य भी करता है।

मुख्य अभ्किल्प इंजीनियर इस कार्यालय का प्रधान है और तकनीकी विशेषज्ञों की टीम द्वारा उन्हें सहयोग प्रदान किया जाता है।

  1. कार्य के प्रति उत्तरदायित्व:

अभिकल्प एवं विकास कार्यालय का कार्य के प्रति उत्तरदायित्व निम्नलिखित है:

  • नए रेल इंजनों की डिजाइन विकास, लोको पुर्जो का आयात विकल्प/स्वेदशी विकास, बहुस्रोत (मल्टी सोर्सिग), डीजल शेडों तथा कारखानों द्वारा डिजाइन संबंधी प्रतिदिन उठाए गए मामले, भारतीय रेल के अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन से सम्पर्क, तकनीकी मामलों के संबंध में आपूर्ति क्रम के पार्टनरों (भागीदारों) से सम्पर्क। लोको मानक समिति डीजल अनुरक्षण ग्रुप इत्यादि से जुडे तकनीकी मामले, डिजाइन/विशिष्टियों एवं महत्वपूर्ण निविदाओं के संबंध में तकनीकी स्पष्टीकरण देना, बडी एसेम्बलियों/जटिल पुर्जों की असफलता का पता लगाना।

  • ई.एम.डी. रेल इंजनों की बोगी तथा विद्युत सामानों के लिए सभी डिजाइने जारी की जाती है। तथापि, ई.एम.डी. रेल इंजनों की डिजाइन अपग्रडेशन जैसे 4500 बी.सी.वी. के लिए पावर अपग्रडेशन, आई.जी.बी.टी. आधारित प्रौद्योगिकी का शामिल होना, वितरित पावर, होटल लोड, ट्विन कैब डब्लू.डी.जी. 4 का विकास और ए.सी/डी.सी. ट्रैक्शन से युक्त 12 सिलिण्डर के 3000 अ.श. वाले ई.एम.डी. रेल इंजनों के विकास से संबंधित कार्य अभिकल्प कार्यालय द्वारा किया जाता रहा है।

  • निरीक्षण तथा गुणवत्ता नियंत्रण मानक के संबंध में मु.गु.आ.प्र. तथा राइट्स के साथ सम्पर्क करना।

  • रेल इंजनों के अनुरक्षण में कमी तथा विश्वसनीयता एवं उपलब्धता में वृद्धि की दृष्टि से प्रौद्योगिकी और गुणवत्ता प्रणाली की उन्नयन।

  • कोई भी नई परियोजना जो राइट्स के माध्यम से गैर रेलवे ग्राहकों/निर्यात के लिए मार्केटिंग (विपणन) द्वारा ली जाती है उसे डिजाइन कार्यालय द्वारा स्वतंत्र रूप से स्वयं अथवा अ.अ. एवं मा.सं. के परामर्श से पूरा किया जाता है। अ.अ. एवं मा.सं. के डिजाइन के मामलों को डिजाइन कार्यालय द्वारा संबद्ध विशिष्टियों सहित निर्माण विवरण के साथ परिवर्तित किया जाता है। तथापि डिजाइन कार्यालय किसी प्रस्तावित परियोजना के लिए मार्केटिंग को तकनीकी सूचना उपलब्ध कराता है।

  • निर्यात/गैर रेल ग्राहकों के लिए नए डीजल विद्युत रेल इंजन की डिजाइन की अवश्यकताएं।

  • सम्पूर्ण डिलाइन प्रलेखन (डाकुमेन्टेशन) नियंत्रण जैसे विशिष्टियाँ, ड्राइंग, अनुरक्षण अनुदेश्, डीजल अनुरक्षण अति पुर्जे कैटलाग, वेण्डर निर्देशिका, क्षेत्रीय रेलों को विभिन्न जानकरियां प्रदान करने के लिए सूचना इत्यादि जैसी डिजाइन प्रकाशन।

  1. गत 2 वर्षों के दौरान लिए गए प्रमुख निर्णय:

  • माइक्रोप्रोसेसर कंट्रोल रेल इंजनों के निर्माण में स्विचओवर।

  • लोको पर कैटराइज रोलर यूनिट बियरिंग के प्रयोग में स्विचओवर।

  • ’मोट्टी’ सेल्फ क्लीनिंग ल्यूब आयल फिल्टर में स्विचओवर।

  • नए रेल इंजनों में एसी आक्स. मोटर (फ्यूल पंप मोटर, क्रैक केस मोटर तथा डस्ट कलेस्टर मोटर) में स्विचओवर।

  • विशुद्ध (प्योर) एयर ब्रेक लोकोमोटिव मैनुफैक्चर (निर्माण) में स्विचओवर।

  • सभी लोको पर आल्टरनेटर माउण्टेड रेक्टिफायर में स्विचओवर।

  • सभी लोको पर मोडिफाइड वीयर एडाप्टेड प्रोफाइल को अपनाना।

  • सभी लोको पर प्री लुब्रिकैंट व्वस्था का फिटमेंट।

  • सभी लोकों पर बबल कलेक्टर से ही एरैटर का परिवर्तन।

  • सभी लोको पर सेल्फ लोड बाक्स टेस्ट फीचर्स, सतर्कता नियंत्रण एवं इवेंट रिकार्डिंग का प्रावधान।

  1. वृहत (मेजर) रेल इंजन डिजाइन परियोजनाएं:

I) चल रही रेल इंजन अभिकल्प परियोजनाएं।

  1. आई.जी.बी.टी. आधारित टी.सी.सी. (ई.एम.डी. निर्मित) से युक्त 4500 बी.सी.वी. डब्लूडीजी 4 रेल इंजन-
    3 रेल इंलन (लोको सं. 12114,12132 एवं 12135) हुबली डीजल शेड में डीरेका से 7 अगस्त को भेजा जा चुका है। 4150 अ.श. तक टी.एच.पी. बढाने का विचार है।
     

  2. ट्रैक्शन मोटरों से युक्त 4500 बी.सी.वी. डब्ल्यूडीपी 4 आई.जी.बी.टी. टी.सी.सी. (ई.एम.डी. निर्मित) रेल इंजन:
    यह रेल इंजन लोअर नोचेंज पर उच्चतर कर्षण प्रयास (ट्रैक्टिव एफर्ट) प्रदान करेगा तथा चढाई वाले स्थान (ग्रेडेड सेक्शन) पर बेहतर पराक्रमयता (निगेटिएविलिटि) का लक्ष्य है। प्रोटोटाइप लोको सं डब्लू.डी.पी. 4-37 मार्च 2008 में निकाला जाएगा।
     

  3.  डब्लू.डी.जी. 4 (डिस्ट्रीब्यूटेड पावर कन्ट्रोल युक्त) के लिए स्वेदेशी एसी-एसी कंट्रोल:
    अप्रैल 08 मई 08 में प्रथम बार स्वदेशी एसी-एसी कंट्रोल आधारित डब्लू.डी.जी. 4 रेल इंजन निर्माण की योजना है। सम्पूर्ण प्रणाली (टी.सी.सी, ई.सी.सी. 1,2 एवं 3) की मार्च 08 टाइप (टेस्ट) होगी। दूसरा प्रोटोटाइप, वितरित पावर कंट्रोल (डिस्ट्रीब्यूटेड पावर कंट्रोल) से युक्त होगा।

  4. डब्ल्यू.डी.पी. 4 (होटल लोड क्षमता सहित) के लिए स्वेदशी एसी-एसी कंट्रोल:
    यह परियोजना डब्लू.डी.पी. 4 (होटल लोड क्षमता सहित) के लिए स्वेदेशी एसी-एसी कंट्रोल विकसित करने हेतु शरू की गई है।

  5. आई.जी.बी.टी. आधारित टी.सी.सी. एवं होटल लोड क्षमता से युक्त डब्ल्यू.डी.पी. 4 रेल इंजन:
    यह रेल इंजन परियोजना विकास के अग्रिम चरण में है।

  6. जी.ई. इलेक्ट्रिक्स से युक्त डब्लू.डी.एम. 3 एफ 3600 अ.श. रेल इंजन:
    डीरेका, इलेक्ट्रिक्स (आल्टरनेटर, रेक्टिफायर, एफ टी एम बी, सम्पूर्ण सी पी एवं टी एम एस) के लिए जी.ई. के साथ रेल इंजन का विकास कर रहा है। सुपुर्दगी की संभावना फरवरी 08 (कंट्रोल पैनल सुपुर्दगी अप्रैल 08 के अन्त तक प्रत्याशित है) में है। गेट्स इलेक्ट्रिक्स से युक्त 3600 अ.श. रेल इंजन वर्ष 2007-08 के द्वितीय अन्तिम तिमाही में निर्मित कर‍ लिया गया जाएगा।

  7. 3500 अ.श. वाला डब्ल्यूडीएम- 3 डी रेल इंजन:
    उन्नत डब्ल्यू.डी.एम. 3डी  लोको 110 किमी प्रति घंटा की बैलेंसिग गति से 26 कोच सवारी गाडी को खीचने की क्षमता प्रदान करने का लक्ष्य और गतिवर्धन आरिक्षत क्षमता में सुधार डीरेका द्वारा प्राप्त किया गया था। प्रथम चार 3500 अ.श. के डब्ल्यूडीएम 3 डी रेल इंजन सं. 11162, 11172, 11173 एवं 11189 डीरेका द्वारा निर्मित किया गया है जिनमें 02 आलमबाग शेड तथा 02 तुगलकाबाद शेड में है। रेलवे बोर्ड ने वर्ष 2007-08 एवं 2008-09 में 35 अदद 3500 अ.श. वाले डब्ल्यू.डी.एम. 3 डी रेल इंजन के उत्पादन के लिए डीरेका को निर्देश दिया हैं।
     

  8.  मोजाम्बिक रेलवे के लिए 3000.श./3300 अ.श. के रेल इंजन:
    ये निर्यात के लिए उपयुक्त रेल इंजन है। डब्लू डी एम 3 लोको अनुकूल विशेषताओं से युक्त उन्नत कैब एवं क्रू मैत्रीपूर्ण (एसी, वायो. डिग्रेडेबुल टायलेट, रेफिजरेटर, हाट प्लेट) है तथा केप गेज जिसे मई 08 तक बनाने की योजना है।

  9. होटल लोड कैटर करने की क्षमता से युक्त 3300 अ.श. रेल इंजन:
    यह परियोजना अ.अ. एवं मा. सं. द्वारा समीक्षाधीन है क्योकि भारतीय रेल ने डब्ल्यू.डी.पी. 4 को होटल लोड क्षमता युक्त करने की योजना बनाइ है।

  10. 12 सिलिण्डर ईएमडी पावर पैक से युक्त 3000-3300 अ.श. का एसी-डीसी लोको:
    विस्तृत वैचारिक (कान्सेप्चुअल) डिजाइन का कार्य पूरा कर लिया गया है।

II) गत दो वर्षो के दौरान विकसित महत्त्वपूर्ण रेल इंजन डिजाइनें:

  1. एण्ड- कैब टाइप डब्लू डी एम 3डी: लोको सं. 11121 मई, 06 में उत्पादित।

  2. आल्टरनेटर माउण्टेड रेक्टिफायर एवं माइक्रोप्रोसेसर कंट्रोल सिस्टम तथा मोडिफाइड (संशोधित) हल्के भार वाली ट्रैकशन मोटर युक्त 19.5 टन एक्सल लोड का डब्लू.डी.एम. 3डी लोको।

  3. आई.जी.बी.टी. आधारित टी.सी.सी. (सिमेन्स) से युक्त 4000 अ.श. का डब्ल्यू.डी.जी. 4 रेल इंजन: लोको सं. 12102 नवम्बर 06 में  उत्पादित।

  4. आई.जी.बी.टी. आधारित टी.सी.सी. (सिमेन्स) से युक्त 4000 अ.श. का डब्ल्यू डी.जी. 4 रेल इंजन: लोको सं.20040 मार्च, 07 में उत्पादित।

  5. फेब्रिकेटेड फ्रेम तथा उन्नत कैव से युक्त नई डिजाइन का डब्ल्यूडीएस 6 रेल इंजन: टेट्रामाउण्ट बोगी से युक्त ए.सी-डी.सी.। फेब्रिकेटेड फ्रेम तथा उन्नत कैव से युक्त नई डिजाइन का डब्ल्यू.डी.एस. 6 रेल इंजन टेट्रामाउण्ट बोगी से युक्त ए.सी-डी.सी.। निर्यात (सेनेगल एवं माली) के लिए 17 टन एक्सल लोड 12 सिलिण्डर,2300 अ.श. मीटर गेज का रेल इंजन।

  6.  

  7.  

  8. निर्यात (सूडान) के लिए 17 टन एक्सल लोड 2300 अ.श. केप रेल इंजन। निर्यात (सूडान) के लिए 12 टन एक्सल लोड 1350 अ.श. केप गेज वाला रेल इंजन।

  9.  

  10. निर्यात (अंगोला) के लिए 17 टन एक्सल लोड 2300 अ.श. केप रेल इंजन।

  11. निर्यात (अंगोला) के लिए 12 टन एक्सल लोड 2300 अ.श. केप गेज रेल इंजन।

  12. निर्यात (म्यांमर) के लिए 12 टन एक्सल लोड 1350 अ.श. मीटर गेज रेल इंजन।

  13. माइक्रोप्रोसेसर आधारित कंट्रोल्स से युक्त (स्वदेशी मेधा प्रणाली से युक्त डब्‍ल्यूडीजी 3/3डी) 3100/3300 अ.श. रेल इंजन।

  14. गेट्स माइक्रोप्रोसेसर आधारित कंट्रोल्स से युक्त 3100/3300 अ.श. रेल इंजन। भारतीय रेल के लिए मिश्रित सेवा हेतु नया विकसिकत 3100 अ.श. का डब्लू.डी.एम. 3बी (ई टाइप) 3100 अ.श. डीजल इलेक्ट्रिक रेल इंजन।

  15.  

  16. सीमेंस माइक्रोप्रोससर आधारित कन्ट्रोल से युक्त 3100/3300 अ.श. का रेल इंजन।

  17. 3100 अ.श., एसी कैब डब्ल्यू.डी.जी. 3ए रेल इंजन 15 अदद एसी डब्ल्यू 3 ए, डब्ल्यू.डी.एम. 3 डी में फिट किया गया है। मेधा माइक्रोप्रोसेसर आधारित कन्ट्रोल सिस्टम से युक्त 3300 अ. श. का डब्ल्यू.डी.जी. 3डी रेल इंजन।

  18.  

  19. इक्वलाइजिंग एवं कम्पेनसेटिंग बीम रहित डब्ल्यू.डी.एम. 3डी लोको सं. 11119 मार्च, 06 में उत्पादित। हैच टाइप डी.बी.आर. से युक्त डब्ल्यू.डी.एम. 3 डी। हैच टाइप डी.बी.आर. से युक्त डब्ल्यू.डी.एम. 3 ए।

  20.  

  21.  

5. चालू वृहत उपकरण एवं पुर्जा डिजाइन परियोजनाएं:

क्र.सं.

परियोजनाएं

1.

251+ सिलिण्डर हेड के लिए वैकल्पिक स्रोत।

2.

मशीनीकृत 16सिलिण्डर ब्लाक आवरण (इनवेल्प) के लिए स्रोत का विकास।

3.

पूर्ण मशीनीकृत 6 सिलिण्डर ब्लाक के लिए स्रोत का विकास।

4.

पूर्ण मशीनीकृत टर्बो सपोर्ट के लिए स्रोत का विकास।

5.

पूर्ण मशीनीकृत कास्ट ब्लाक।

6.

रोल्ड स्पलाइन का विकास।

7.

उच्च क्षमता का फ्यूल इंजेक्शन पम्प।

8.

इलेक्ट्रानिक फ्यूल इंजेक्शन प्रणाली।

9.

डबल हेलेक्स टाइप एफ.आइ.पी.।

10.

एक्जास्ट मैनीफोल्ड के लिए थर्मल इंसुलेशन।

11.

फोर्ज्ड पिस्टन पिन।

12.

ट्रेड से केस कारबुराइज्ड कैम शाफ्ट तथा क्रैंक शाफ्ट गियरों का विकास।

13.

ट्रेड से इण्डक्श न हार्डेन्ड कैम शाफ्ट तथा क्रैंक शाफ्ट गियरों का विकास।

14.

ट्रेड से तैयार फ्यूल पम्प ड्राइव एसेम्बल (स्टिफर) का विकास।

15.

पिस्टन, रिंग एवं लाइनर परियोजना (3 आर.वी)।

16.

बिना इक्वलाअजर तथा कम्पेन्सेशन व्यवस्था के डब्ल्यू.डी.एम. 3 डी/डब्ल्यू.डी.जी. 3ए श्रृंखला के लिए संशोधित बोगी।

17.

सालिढ स्टिक हवील फ्लैन्ज्‍ लुब्रिकेशन प्रणाली।

18.

ड्राइवर के लिए कम्पैक्ट (सुसंबद्ध) कंट्रोल स्टैण्ड।

19.

पानी क्षति की सावधानी को ध्यान मे रखते हुए तथा लम्बी अवधि में पुन: भरने के लिए 2 चम्बर (कक्ष) युक्त वाटर एक्पैंसन टैंक की पुन: डिजाइन।

20.

एल.ई.डी. सहित ट्रान्सडयूसर आधारित प्रेसर डिस्प्ले गेज।

21.

मोट्टी सेल्फ क्लीनिंग एल.ओ. फिल्टर।

22.

मोटर रहित कारबाडी फिल्टर्स।

23.

हल्के भार के डब्ल्यू.डी.जी. 3 ए फ्यूल टैक के लिए संशोधित स्वैश प्लेट।

24.

सभी स्विचों से समायोजित, संशोधित कंट्रोल डेस्क।

25.

उन्नत उच्च टी.ई. ट्रैक्शन मोटर्स।

26.

रोलर सस्पेंशन व्यवस्था सहित टी.एम. 4501

27.

डब्ल्यू.डी.जी. 3 ए पर हायर स्टाल करेंट।

28.

ई बीम रेडिएटेड ब्रेक किट गास्केट, ओ रिंग तथा डायाफ्रम।

29.

बैटरी के लिए ओटो फिल प्रणाली।

30.

ब्रशलेस डिजाइन एडी करेन्ट क्लच।

31.

जी एम टाइप मास्टर कन्ट्रोलर।

32.

पोस्ट लुब्रिकेशन फीचर।

33.

लो आइडल।

34.

आटो इमरजेसी ब्रेक।

35.

स्पीड सेन्सर (टेको जेनरेटर के स्थान पर) से युक्त एम.सी.बी.जी.।

36.

फायर आल्टर प्रणाली।

37.

गेट्स टी.ए: जी.टी. ए-11 एवं रेक्टिफायर।

कैड सुविधाएं:

वर्तमान:

  • अभिकल्प कार्यालय हाई एण्ड कैड साफ्टवेयर तथा कैड वर्क स्टेशन से सुसज्जित है।

  • डिजाइन (अभिकल्प) कार्यालय यूनिग्राफ्क्सि 3 डी माडलिंग डिजाइन साफ्टवेयर का प्रयोग करते हुए टी सेन्टर इंजीनियरिंग पी डी एम (उत्पाद आकडा प्रबंधन) पर पूर्ण रूप से कार्यरत है:-

    • इंजीनियरिंग डाटा बेस का कंट्रोल (नियंत्रण)

    • संशोधन नियंत्रण (रिवीजन कंट्रोल)

    • निर्मुक्त नियंत्रण (रिवीजन कंट्रोल)

    • पुर्जो का नकनीपन (डुप्लीसिटी आफ कम्पोनेन्ट्स)

    • पुर्जों का बेहतर फिटमेंट।

    • टीम सेन्टर इंजीनियरिंग पी.डी.एम.
    = 12 लाइसेन्स
    • यूनीग्राफिक्स् (एन एक्स) 3 डी. कैड
    = 15 लाइसेंस
    • एन एक्स नास्ट्रेन सी.ए.ई.
    = 01 लाइसेंस
    • आटो कैड 2 डी
    = 10 लाइसेंस
    • प्रामिस (वायरिंग/स्कीमैटिक)
    = 02 लाइसेंस
    • सर्वर: टीम सेन्टर सर्वर (विन 2003)
    = 01 लाइसेंस
    • सर्वर: आटो एवं स्कैन डाटा (विन 2003)
    = 01 लाइसेंस
    • यू.जी. कैड वर्क स्टेशन
    19
    • आटो कैड वर्क स्टेशन
    = 08
    • प्लाटर्स
    = 02
    • लैसर प्रिंटर ए3/ए4
    =02
  • उच्च गति (हाई स्पीड) नेटवर्किंग

  • सभी ड्राफ्टिंग/डिजाइन कर्मचारियों के लिए मोडयूलर फर्नीचर लगाए गए है।

  • 0 साइज फोटो कापियर जीराक्स एवं किप (इस मशीन पर पेपर रोज का प्रयोग करके ए0 साइज मे ड्राइंगों की आटोमेटिक मल्टी कापी (प्रतिलिपि) प्राप्त की जा सकती है)।

  • 2 साइज फोटो कापियर जीराक्स माडल नं. 5365 (इस मशीन पर कट शीट से ए3 तथा ए4 साइज की ड्राइंग तथा स्पेस की स्वत: कई प्रतिलिपि की जा सकती है।)

  • फोटो कापियर जीराक्स 5834 (इस मशीन पर कट शीट से ए 3 एवं ए4 साइज के ड्राइंगों/ स्पेस की कई प्रतिलिपि स्वत: निकाली जा सकती है।)

  • हार्ड कापी की तरह प्रिटिंग सेक्सन हार्ड कापी के प्रयोग के बिना रिकार्ड में स्टोर किए गए मून के स्कैन्ड इमैज से प्रिंट आउट ले सकता है।

योजना:

  • यूनिक्स वर्क स्टेशन को बदलकर यू.जी. कैड वर्क स्टेशन तथा यू.जी. साफ्टवेयर मोडयूल की अधिप्राप्ति।

  • अभिकल्प एवं विकास कार्यालय भवन में कैड सेन्टर-2 का विस्तार।

  • डिलाइन आफिस कैड सुविधाओं का संवर्द्धन।

  • कैड सेन्टर के लिए क्लस्टर सर्वर सस्टिम की अधिप्राप्ति।

  • रिप्लेसमेंट के रूप में 16 पर्सनल कम्प्यूटर की अधिप्राप्ति।

  • इंकजेट प्रिटर्स (8 अदद), डी.एम.पी. प्रिटर्स (4 अदद) यू.पी.एस. 600 वी ए (16 अदद)

  • सर्वर कम्पैक एम.एल. 530 (8 अदद) के लिए हार्ड डिस्क 146 जी.बी. एस.सी.आई. हाट स्वेपेबुल 10000 आर.पी.एम. की अधिप्राप्ति।

  • दिनांक 01.04.07 से 31.03.08 तक प्रभावी टीम सेन्टर तथा यू.जी.एन. एक्स. (समेकित) साफ्टवेयर का ए.एम.सी.।

  • कैड सिस्टम कम्प्यूटर हार्डवेयर का ए एम सी।

  • कैड सेन्टर के‍ लिए 2x10 के.वी.ए. न्यूमेरिक निर्मित यू.पी.ए. सिस्टम का ए.एम.सी.।

  • 2डी ड्राइंग, रिकार्ड एवं प्रिटिंग सहित 3डी कैड माडल विसुलाइजेसन एवं रिलीज सिस्टम के अधिप्राप्ति का प्रस्ताव।

  • कैड यू.पी.एस. सिस्टम के लिए नया एएमसी।

  1. अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन के साथ डीजल मेटनन्स ग्रुप, बल्क इन्डेट मीटिंग तथा को आडिनेशन मीटिंग:

    डीरेका से संबंधित तकनीकी निर्णयों के अनुपालन के लिए अभिकल्प एवं विकास कार्यालय द्वारा महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। यद्यपि बी आई एम का आशय रेलवे की थोक माग से है परन्तु इस फोरम के साथ नई/विकास परियोजनाओं के संबंध में भी चर्चा की जाती है।

  2. सूचना:

डीरेका, रेलइंजनों पर रेलों, डीजल शेडों, कारखानों और रेलवे बोर्ड में क्रियान्वित महत्त्वपूर्ण परिवर्तन/विकास संबंधी जानकारी के लिए "सूचना" नामक तकनीकी बुनेटिन जारी करता है। "सूचना"  में शेडों तथा कारखानों के लिए लागू सभी आशोधन/परिवर्तन शामिल होगे। सूचना हार्ड तथा साफ्ट प्रतिलिपियों में उपलब्ध कराई जाएगी।

" सूचना"  में निम्नलिखित सूचनाएं शामिल की जाती है:

  • कार्यान्वित महत्त्वपूर्ण परियोजनाएं/डिजाइनें।

  • कार्यान्वित की जाने वाली महत्त्वपूर्ण परियोजनाएं/डिजाइनें।

  • नए रेलइंजन डिजाइनों एवं रेलइंजन उपकरणों पर विशेष परिशिष्ट।

  • रिर्पोट की गयी खराबियों का‍ विवरण तथा डीरेका द्वारा की गई कार्यवाही।

  • असफलता जांच रपट।

  • विविध तकनीकी सूचनाएं।

  • परीक्षण के रूप में फिट किए गए लोको संख्या सहित मदों की सूची।

  • महत्त्वपूर्ण सी.पी.ए.एस. की सूची।

  • मार्च, 02 तक "सूचना" के ग्यारह अंक जारी किए गए।

  1. प्रशिक्षण एवं मानव संसाधन विकास (एच.आर.डी.):

प्रशिक्षण पर विशेष महत्त्व दिया गया है। आधुनिक ड्राफ्टिंग टूल जैसे कैड एवं यूनीग्राफिक्स के दक्षता पूर्ण प्रयोग के लिए डिजाइन कार्यालय के तकनीकी कार्मिकों के लिए नियमित प्रशिक्षण आयोजित किया जाता है। मानव संसाधन को मजबूत बनाने के लिए, एफ.ई.ए. के क्षेत्र में प्रशिक्षण कम्प्यूटर एडेड कैलकुलेशन एवं एडवांस डिजाइन स्कील योजना है। आगें विशिष्ट कम्प्यूटर अनुकरण पर विविध कम्प्यूटर अनुप्रयोगों को कार्य रूप देने हेतु कर्मचारियों के प्रशिक्षण की भी योजना बनाई गई है।

मानव संसाधन को प्रभावी ढंग से सुदृढ करने पर विशेष बल दिया गया। लागू योजना, औपचारिकता तथा अनौपचारिक रूप से निम्न प्रकार है:

  • "माह/तिमाही/वर्ष" का व्यक्ति घोषित कर उत्कृष्ठ कर्मचारी का सम्मान।

  • ऐसे व्यक्तियों को नकद पुरस्कार, प्रमाण पत्र तथा स्मृति चिन्ह से पु.रस्कृत किया जाता है।
     

 

अभिकल्प कार्यालय का संगठनात्मक चार्टज



Source : Welcome to DLW Official Website CMS Team Last Reviewed on: 19-05-2016  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.